Follow by Email

Thursday, May 7, 2015

हुई यूँ ग़मों की ये शाम आखिरी है

...

हुई यूँ ग़मों की ये शाम आखिरी है,
पहना दो कफन ये सलाम आखिरी है |

यूँ भर के ये अखियाँ टपकते जो आंसू ,
वो कहते हैं पीलो ये जाम आखिरी है |

सफ़र आखिरी है कदम दो मिला लो,
खुदा का दिया इंतजाम आखिरी है |

टपकते रहे पर, सकूं था कि इतना,
गमे ज़िन्दगी का इनाम आखिरी है |

यूँ ख्वाबों में हर पल रहे उम्र भर जो,
उन्ही के लिए ये कलाम आखिरी है |

महक तेरे दामन की चारों तरफ है,
यूँ समझो खुदा का पयाम आखिरी है |

 

© हर्ष महाजन


पुरानी कृति