Follow by Email

Thursday, April 30, 2015

भूखे नंगे शहर में हरसूं बसते हैं खालीफे लोग

...

भूखे नंगे शहर में हरसूं बसते हैं खलीफे लोग,
ढूँढा करते हर तबके को ठगने के तरीके लोग |

महफ़िल सूनी, मैकश सूनी, सारे सूने साज़ हुए,
गम में डूबे हैं सब इतने, भूल गए सलीके लोग |

मंजिल नहीं मिली तो गम में आशिक यूँ पागल हुए,
तोड़-तोड़ गुंचे फूलों के, उजाड़ें यूँ बगीचे लोग |

झूठी शान-ओ-शौकत में अब दुनियां यूँ मशगूल हुई,
कीमती चीज़ों के चक्कर में भूल गए गलीचे लोग |

मुजरिम यूँ परवाने बन, जब घर में आ दाखिल हुए,
दीवाने बन झाँका करते दिल के यूँ दरीचे लोग |

© हर्ष महाजन

कभी हक की रोशनी में कभी हक के फासलों में,



...

कभी हक की रोशनी में कभी हक के फासलों में,
वो शख्स ज़िंदगी में......जाने कहाँ-कहाँ से गुजरा |
 
कभी दिल की धडकनों में कभी अश्कों के सफ़र में
था हर भंवर में शामिल.......मैं जहां-जहां से गुज़रा ।

मुझे कुछ पता नहीं था.......ये इश्क क्या बला थी,
वो जिस गली से गुज़रा.......मैं वहाँ-वहाँ से गुज़रा ।

कभी इश्क में था ये दिल,  इक बे-रुखी से गुज़रा
वो अश्कों के सफ़र में......संग इम्तिहाँ से गुज़रा ।

मैं खुद हैराँ हूँ उस पर किस किस डगर से गुजरा,

दुनिया के तंज़-ओ-गम के भी कारवां से गुज़रा |



हर्ष महाजन

रात भर तेरे गम में चाक रहे




...


रात भर तेरे गम में चाक रहे, आँख भर-भर के जाम चलते रहे,
इक झलक पाने को मैखाने में, यूँ ही चढ़-चढ़ के दाम चलते रहे |

क्यूँ ये रातें हैं अब अंधेरों सी, चाँद छुप-छुप के क्यूँ निकलता है,
जिस तरह जल रहा था परवाना, मेरे दिल से सलाम चलते रहे |

खौफ अब क्यूँ नजर नहीं आता, इश्क जब गैरों में मचलने लगे,
दर्द उठ-उठ सकूं यूँ देता रहा, जब तक उनके पयाम चलते रहे |

चाँद की चाहतों में दीवाना, उम्र भर भटके बादलों की तरह ,
इश्क महफूज़ मैयतों में सदा, जब वफाओं के जाम चलते रहे |

जब से उलझी हैं इश्क की राहें, तेरा नाम सजदे में पुकारा है,
और पतझड़ में गिरते पत्तों पर, तेरा लिख-लिख के नाम चलते रहे |

यूँ तो ये शहर बदनसीबों का, गम में भी करते शायरों से गिला,
है मगर हर्षबेरहम शायर , फिर भी उनके कलाम चलते रहे |


हर्ष महाजन

मुझे नाज़ है तू नसीब है



...
मुझे नाज़ है तू नसीब है,
मेरी ज़िन्दगी के करीब है |

तुझे इतनी भी तो खबर नहीं,
मेरा इश्क तुझसे अजीब है |

मैं तो छोड़ दूं ये जहां अगर,
कोई ओर तेरा हबीब है |

तिरे गम से गर मैं जुदा हुआ,
न तू ये समझना नसीब है |

मेरा दिल बहुत है उदास अब,
ज्यूँ हो सर पे मेरे सलीब है |


हर्ष महाजन
122-122-1212