Follow by Email

Friday, May 29, 2015

उसको लफ्ज़ ए मुहब्बत सिखाता रहा



...

उसको लफ्ज़ ए मुहब्बत सिखाता रहा,
नज़्म वो लिखती .....धुन मैं बनाता रहा ।

उसकी तहरीरें दिल को.....चुबती रहीं,
मिसरा दर मिसरा उसका रुलाता रहा ।

हम मुहब्बत में शायद.......नाकाम रहे,
फिर भी दिल मैं.....उसी पे लुटात़ा रहा ।

मैंने सदियों कही....गम पे ग़ज़लें बहुत,
पर मैं नज्में उसी की........सुनाता रहा ।

रूठ कर जब वो दिल से हुई बे-दखल ,
जाने अफ़साने....जग क्या बनाता रहा ।

उम्र भर मैकदा से.............रहा दूर दूर,
अब मैं बज्मों में पीता..... पिलाता रहा ।


--------------
हर्ष महाजन

अपने होटों पे सदा हम तो दुआ रखते हैं



...

अपने होटों पे सदा.......हम तो दुआ रखते हैं,
बे-वफाओं से भी हम तो....अब वफ़ा रखते हैं |

है हुनर चुपके से धड़कन में.....उतर जाने का,
चाहे दुश्मन जो बहुत...दिल में सजा रखते हैं |

ज़िंदगी दी है खुदा ने....तो संग दी है अदा भी ,
पर उठे उंगली न नियत पर ये अना रखते हैं |

हम तो प्यासे बहुत...नदिया तलाश करते हैं,
गुज़रे लम्हों की.....फिजाओं में हवा रखते हैं |

थी दुआ उनकी चले जाएँ उनकी ज़िंद से सदा,
हो असर इतना दुआओं में....ये दुआ रखते हैं |


_______________
हर्ष महाजन

Wednesday, May 27, 2015

रुख अब हवा का बदलने लगा है

...
.
रुख अब हवा का बदलने लगा है,
तबसुम भी शोला उगलने लगा है |

.
जब से चला है पता साजिशों का,
दिल कातिलों का दहलने लगा है ।

.
कब तक भला क़ैद साँसे रहेंगी,
दिल वादियों का पिघलने लगा है ।

.
गुमराह कब तक रहेंगी दिशाएँ,
तेवर फलक भी बदलने लगा है ।

.
टिम-टिम सितारों तुम्हें छुपना होगा,
सूरज यहाँ अब निकलने लगा है ।

.
__________हर्ष महाजन

Thursday, May 14, 2015

मुझे नाज़ है तू नसीब है

...

मुझे नाज़ है तू नसीब है,
मेरी ज़िन्दगी के करीब है |

तुझे इतनी भी तो खबर नहीं,
मेरा इश्क तुझसे अजीब है |

मैं तो छोड़ दूं ये जहां अगर,
कोई ओर तेरा हबीब है |

तिरे गम से गर मैं जुदा हुआ,
न तू ये समझना नसीब है |

.
मेरा दिल बहुत है उदास अब, ,
ज्यूँ हो सर पे मेरे सलीब है |

हर्ष महाजन


122 122 1212

Tuesday, May 12, 2015

हो रहे जो हादसे ये बात कुछ तो ज़रूर है

...

हो रहे जो हादसे ये बात कुछ तो ज़रूर है,
आदमी जो आम है वो हर तरह बे-कसूर है |

कर रहे बदनामियाँ फिर बिन अदालत फैसला,
शख्स जिनपर हो सज़ा इस हादसे से दूर है |

बस्तियों में जल रहे हैं कागजों के वो मकां ,
दर्द अब जिसपे लिखा वो आदमी बे-कसूर है |

खो चुका वो अब भरोसा क्या खुदा औ नाखुदा
शख्स अब भी चुप खड़ा उसे हर सज़ा मंजूर है |

झूठ के पैबंद लगे हैं ‘हर्ष’ अब पोशाक पर
आदमी जिसपे लगें वो आदमी मशहूर है |

हर्ष महाजन

Monday, May 11, 2015

मुहब्बत हो रही बदनाम मेरे अफ़साने बहुत हैं

...

मुहब्बत हो रही बदनाम मेरे अफ़साने बहुत हैं,
तेरे इस शहर में अब तो  मेरे दीवाने बहुत हैं |

तेरी आंखों के समंदर में मिले है नशा इतना,
वरना कहने को तो इस शहर में मैखाने बहुत हैं |

यूँ  ही खिलते हुए फूलों को झड़ते देखा है मैंने,
जिन्हें अंजाम देने को यहाँ बेगाने बहुत हैं |

तेरे कूचे में आकर दिल की कश्ती डूब जाती है,
मगर तुम देखो तो हम प्यार में अनजाने बहुत हैं |


मेरी रातें तेरी यादों से सजी रहती हैं लेकिन,
मुझको डर है तो बस इन यादों के ठिकाने बहुत हैं |

हर्ष महाजन

Friday, May 8, 2015

मुझे गम है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है



...

मुझे गम है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है,
यकीनन दुनिया ने मुझको यहाँ पहचाना नहीं है । 

हुआ हूँ पारा-पारा देख ज़माने की अदाओं को,
मुझे क्यूँ लगता था कोई यहाँ बेगाना नहीं है ।

चले तलवारों की माफिक जुबां अपने करीबों की,
लगे वेसे भी अब मौसम यहाँ सुहाना नहीं है ।

हुए हमदर्द अब दुश्मन खुदाया दे कफन मुझको,
यहाँ बे-दर्द दुनिया में मेरा ठिकाना नहीं है ।

तजुर्बा हो गया मुझको सहे जो शोले नफरत के
हुई जो साजिशें पर 'हर्ष' यहाँ अनजाना नहीं है ।


© हर्ष महाजन


पुरानी कृति

Thursday, May 7, 2015

हुई यूँ ग़मों की ये शाम आखिरी है

...

हुई यूँ ग़मों की ये शाम आखिरी है,
पहना दो कफन ये सलाम आखिरी है |

यूँ भर के ये अखियाँ टपकते जो आंसू ,
वो कहते हैं पीलो ये जाम आखिरी है |

सफ़र आखिरी है कदम दो मिला लो,
खुदा का दिया इंतजाम आखिरी है |

टपकते रहे पर, सकूं था कि इतना,
गमे ज़िन्दगी का इनाम आखिरी है |

यूँ ख्वाबों में हर पल रहे उम्र भर जो,
उन्ही के लिए ये कलाम आखिरी है |

महक तेरे दामन की चारों तरफ है,
यूँ समझो खुदा का पयाम आखिरी है |

 

© हर्ष महाजन


पुरानी कृति

Wednesday, May 6, 2015

दिल-ए-ग़मज़दा को सताओगे क्या तुम



...

दिल-ए-ग़मज़दा को सताओगे क्या तुम,
मुझे बार-बार आजमाओगे क्या तुम |

ये हम हैं कि अब तक परेशाँ हैं,
शब्-ए-हिज्राँ की ताब लाओगे क्या तुम |


बस इतनी सी इक बात मैं पूछता हूँ,
कभी मुझको अपना बनाओगे क्या तुम |


न छोड़ोगे मर कर भी दामन हमारा,
जो वादा किया था निभाओगे क्या तुम |


गम-ए-ज़िन्दगी, ज़िंदगी बन चुका है,
हंसा कर मुझे अब रुलाओगे क्या तुम |


‘हर्ष’ आज मुल्क-ए-अदम से चला है,
इस बार ज़िन्दगी संग आओगे क्या तुम |


© हर्ष महाजन

Tuesday, May 5, 2015

कैसा है अब शोर यहाँ पर दिखते हैं घबराए लोग



...

कैसा है अब शोर यहाँ पर दिखते हैं घबराए लोग,
ढूँढा करते प्यार यहाँ पर सदियों से ठुकराए लोग |

बिक जाते ईमान यहाँ पर बिक जाती हैं नीयत भी,
ज़र्रा-ज़र्रा लूटा हमसे जब-जब मिलने आये लोग |


ख़त्म हुए हैं जज्बे दिल के ख़तम हुए सारे अहसास,
अपने ही कांधों पर फिरते अपनी लाश उठाये लोग |


हर इंसान के दिल में उठता प्यार का इक ऐसा तूफ़ान,
जिसके बहाने जी पाते हैं हम जैसे पथराये लोग |


कफन अधूरा लकड़ी अधूरी अधूरा अपनों का ईमान,
चिता से उठती आग से देखो घर का दीप जलायें  लोग |


© हर्ष महाजन

एक पुरानी कृति