Follow by Email

Friday, January 8, 2016

तेरी नज़रों से जो उतरूँ क्यूँ न मर जाऊं अभी

...
तेरी नज़रों से जो उतरूँ क्यूँ न मर जाऊं अभी,
ज़िंदगी को यूँ ही रौशान क्यूँ न कर जाऊं अभी |
.
ख्वाब बनकर मेरी आँखों में, समा जाए अगर,
ये नसीहत ही सही खुद....मैं सुधर जाऊं अभी |
.
ये तमन्ना थी कि मुझको भी रिझाये तू कभी,
गर ये मुमकिन हो समंदर में उतर जाऊं अभी |
.
बेवफा दुनिया कहे मुझको...तो परवाह है किसे,
बेवफा तू जो कहे तो.......न बिखर जाऊं अभी |
.
ज़ुल्म इतने सहे दुश्मन की, निगाहों से सदा,
तू भी नफरत जो करेगी तो किधर जाऊं अभी |

हर्ष महाजन

तर्ज़ : “रंग और नूर की बारात किसे पेश करूँ”