Follow by Email

Friday, March 4, 2016

तेरे हिस्से की मैंने दिल में इक सौगात रक्खी है



...

तेरे हिस्से की मैंने दिल में इक सौगात रक्खी है,
ज़रा आओ तो परदे में.......ज़मीं आज़ाद रक्खी है |

तेरे कूचे की मुझको......यादें क्यूँ जीने नहीं देतीं,
नज़र भर देख आँखों में वो शय आबाद रक्खी है |


मुहब्बत की हवेली ये.......इसे बीरान न कर तू ,
ये अपनी रूह भी, खातिर तेरे, बेज़ार रक्खी है |


अगर मुमकिन नहीं आना भुलाना भी नहीं वाजिब,
लबों से हंस के मैंने...जान भी कुर्बान रक्खी है |


इलाही सब्र का दामन.......कभी छोड़ा नहीं मैंने,
तेरी तस्वीर दिल में उस जगह बेदाग़ रक्खी है |


कभी आँखों से बहते अश्क भी भूला नहीं हूँ मैं,
खुदाया आना तू इक बार इक रुदाद रक्खी है | 


______हर्ष महाजन


1222 1222 1222 1222