Follow by Email

Sunday, April 10, 2016

इतनी करो भी हमसे शरारत न यूँ कभी



...

इतनी करो भी हमसे शरारत न यूँ कभी,
आँखों से उठ ही जाए शराफत न यूं कभी |
.
देखे, जो चांदनी में, नहाया तिरा बदन,
हो जाए अब शहर में बगावत न यूं कभी |
.
वो चाँद जब फलक से कभी इस तरह झुके,
देखी है इस तरह की, इबादत न यूं कभी |
.
आओ, चलें चमन से, कहीं दूर, गुलबदन,
ये चाँदनी, करे वो, खिलाफत न यूं कभी |
.
चर्चे तिरे, शहर में, जफाओं के, इस तरह,
लगने लगे ये दिल में अदालत न यूं कभी |
.
हर्ष महाजन

221 2121 1221 212