Follow by Email

Thursday, April 7, 2016

कहीं दिल की गहराइयों में पड़ा है

...

कहीं दिल की गहराइयों में पड़ा है,
जवाँ दर्द है.........मुद्दतों से पला है ।

कभी बे-वफाई कभी छल का तकमा,
मुझे गैर क्या अपनों से भी मिला है ।

मैं तंग आ चुका, कश्मकश ज़िन्दगी से,
जो आरा ज़फ़ा का, यूँ दिल पे चला है ।

चले संग थे जो,.....वो आगे खड़े हैं,
सभी कुछ है पर मैं, वहीँ पे खड़ा हूँ ।

समंदर में कश्ती.....बही जा रही है,
है तूफां वो माझी......नशे में पड़ा है ।

-------------------हर्ष महाजन

बहर
122 122 122 122