Follow by Email

Monday, June 27, 2016

मेरी अधीर आँखें हैं सागर पिए हुए

...

मेरी अधीर आँखें हैं सागर पिए हुए,
वो बह रही है उम्र से आंसू लिए हुए |

इक वक़्त था वो शैदा थे मेरे शबाब पर,
पर आज गैरों से वो हैं शिर्कत किये हुए |


मेरा जुनूं था उनका मैं सिजदा करूँ कभी,
अब क्या कहूँ वो चोट है दिल पर दिए हुए |


पूंछा किये हैं अश्क तो मेरे तरीन दोस्त,
पर दाग वो किसे कहूँ, हैं लब सिए हुए |


अब छू रही बुलंदी को आन्हें जरा सुनों,
ये कौन शै है दिल को यूँ पत्थर किये हुए | 



हर्ष महाजन 


मुजारी मुसम्मन अखरब मख्फूफ़ महजूफ
221 2121 1221 212