Follow by Email

Tuesday, December 27, 2016

शरीक ए मुहब्बत शरीक ए सफर है,


...

शरीक-ए-मुहब्बत, शरीक-ए-सफर है,
ऐ जान-ए-तमन्ना तु मेरा ज़िगर है ।

अगर धूप देखी तो छाँवें भी देखीं,
मगर इक कशिश है ,वहां तू जिधर है ।

है तुझ पे गुमाँ पर, ये दिल पे निशाँ क्यूँ,
वो गर्दिश के दिन तो हुए दर-बदर हैं ।

यूँ फिकरों में दिन कटती अश्क़ों में रातें,
है कैसा सितम हर दवा बे-असर है ।

गज़ब मंज़िलें हैं, गज़ब हैं सदायें,
कि धड़कन पे तेरी ही मेरा सफर है ।

हो बस इक नज़र, हो चले इतमिनाँ फिर,
मचलने लगा जो, बता दिल किधर है ।

किसी शख्स को हो न हो दर्द जानाँ,
मेरे दिल के हुजरे पे इसका असर है ।


---------हर्ष महाजन

बहरे मुत्कारिब मुसम्मन सालिम
122 122 122 122