Follow by Email

Monday, February 22, 2016

तेरे सिजदे में बाबा सर झुका कर मैं भी देखूंगा

...

तेरे सिजदे में बाबा सर झुका कर मैं भी देखूंगा,
तले पांवों के होंमें खुद दबा कर मैं भी देखूंगा ।

तेरे इस नूर की चादर से दाता दूर मैं क्यूँ हूँ,
उठा दे पर्दा पापी का, दया कर मैं भी देखूंगा ।

मैं कामी क्रोधी लोभी और दाता तू है बक्शनहार,
तेरे दर्शन को अब सचखंड में आकर मैं भी देखूंगा ।

अनंत रूहों को तूने उनके पापों से उभारा है,
रूहानी मंडलों में तेरे जाकर मैं भी देखूंगा ।

मैं अपने ही अहम् का बरसों से मारा हुआ लेकिन,
हुई रहमत तेरी, दुंनियां भुलाकर मैं भी देखूंगा ।

-----------------------हर्ष महाजन