Follow by Email

Friday, January 6, 2017

बन के दरिया गर समंदर...आँखों से चला आया हो

...

बन के दरिया गर समंदर...आँखों से चला आया हो,
दिल को मुमकिन है किसी गम ने बहुत तड़पाया हो ।

अपने ही गुलशन की कलियां गैर जब लगने लगें
तो समझना ज़ख्म कोई दिल से आ टकराया हो ।

खुश्क आँखों में अगर अश्क़ों की आ जाए महक,
तो यकीनन माँ का साया ख्वाब में उभर आया हो ।

पतझड़ों में हैराँ मौसम कुछ शज़र क्यूँ खिल गये,
अश्क़ शायद इनके साये.....में कभी टपकाया हो ।

कोई किस्मत में नहीं.............ढूँढा बहुत संसार में,
ये भी था मुमकिन खुदा ने उसको खुद भटकाया हो ।

-----------------हर्ष महाजन

बहरे रमल मुसम्मन महजूफ
2122 2122 2122 212