Follow by Email

Thursday, February 2, 2017

तनहा सी ज़िन्दगी में, वो बात ढूंढते हैं

एक पुरानी कृति एडिट के साथ....

...

तनहा सी ज़िन्दगी में, इक बात ढूंढते हैं,
कब चाँद डूबा अपना, वो रात ढूंढते हैं |

कुछ लफ़्ज़ों से हुआ है मेरा वजूद खारिज,
किरदार खेला कैसे वो बात ढूंढते हैं |

मैं हूँ परेशाँ इतना तुम भी तो कम नहीं हो,
फुर्सत से मिलके दोनों जज़्बात ढूंढते हैं |

हरदम रहा तू शामिल, बरबादियों में मेरी,
ये हादसा हुआ क्यूँ, हालात ढूंढते हैं |

ऐ नींद कर सफ़र तू ख़्वाबों की वादियों में,
फिर इश्क की डगर के स्वलात ढूंढते हैं |

हर्ष महाजन


***
बहरे मुजारी मुसम्मन अखरब (शिकस्ता )
221-2122 // 221-2122
*इन्साफ की डगर पे बच्चो दिखाओ चल के |
*सारे जहाँ से अच्छा हिन्दूसितां हमारा |
*गाड़ी बुला रही है सीटी बजा रही है |
*ये ज़िंदगी के मेले दुनियां में कम न होंगे |
*ओ दूर के मुसाफिर हमको भी साथ ले ले |
*गुज़रा हुआ ज़माना आता नहीं दुबारा |
*तकदीर का फ़साना जाकर किसे सुनाएँ |