Follow by Email

Monday, July 17, 2017

दाग तुम लगने न देना घर की उजली साख पर

...

दाग तुम लगने न देना घर की उजली साख पर,
बे-असर कर देना हों जब तल्खियां बे बात पर ।

कुछ सियासी दांव हैं अपने भी खेलें गैर भी,
हो हुनर अपने में इतना घर बना ले राख पर ।

चल पड़ीं गर नफ़रतें तो, दर्द-ए-सर हो जाएंगी,
फिर सिमट जाएंगे अपने अपनी-अपनी शाख पर ।

गर हुनर खुद में हो इतना भर मुहब्बत रिश्तों में,
बे-असर हो जाएगी दौलत तू रख दे ताक पर ।

बन शज़र रखना नज़र अपनों पे औ गैरों पे भी,
वर्णा रिश्ते रिश्ते क्या मचले जो हर जज़्बात पर ।

----------------------हर्ष महाजन

2122 /2122 /2122/ 212