Follow by Email

Friday, December 30, 2016

मुझको कल रात खूब याद आई तेरी

-------------नज़्म ( डोली )

मुझको कल रात खूब याद आई तेरी,
डोली अरमानों से थी.....सजाई तेरी ।

खुश थे हम भी मगर अश्क़ ले आँखों में,
हँसते रोते जो की थी......बिदाई तेरी ।

उस तरफ ढोल बाजे......नगाड़े बहुत,
पर यहां सूनी गलियां....ओ माई तेरी ।

दूर तक जाते तूने........जो देखा मुझे,
पल वो दादी बहुत.....याद आई तेरी ।

यूँ ही कागज़ पे आंसू ....बहाये बहुत,
मैंने जब-जब थी गुड़िया ..उठाई तेरी ।

ख्वाब टूटा तो दिल पे था बोझ लिये,
बिखरी तस्वीेर आँखों में.....छाई तेरी ।

टूटे ख़्वाबों ने इतना बताया मुझे,
मैंने बचपन की यादें  छुपाई तेरी ।

मेरे दिल से जुदा हो न पाई कभी,
घर की अलमारियों पे लिखाई तेरी ।

तुझको भूले से कुछ हो न जाए कभी,
अब खुदा से भी  कर ली दुहाई तेरी ।

दर्द आँचल से थोड़ा गिरा अब ज़रा,
दूर पापा तेरे संग.........है आई तेरी ।

ये नज़म लिखते ही इतना रोया हूँ मैं,
 साथ गुड़ियों के रातें बिताई तेरी ।

डोली अरमानों से थी.....सजाई तेरी,
मुझको कल रात खूब याद आई तेरी ।

------------हर्ष महाजन

बहर

212 212 212 212
1)"आपकी याद आती रही रात भर
चश्म-ए-नम मुस्कराती रही रात भर"

2) "खुश रहे तू सदा ये दुआ है मेरी"

Thursday, December 29, 2016

अगर समझता यहाँ, मेरे दिल का हाल कोई

...

अगर समझता यहाँ, मेरे दिल का हाल कोई,
न रौंद जाता मेरे..........सैकड़ों सवाल कोई ।

न जाने होता रहा...........कैसे ऐतबार फनां,
यूँ कर गया जो मेरी......ज़िन्दगी बवाल कोई ।

ज़ुदा किया था जिन्हें खुद तो कोई बात न थी,
मगर बता दे मुझे....उनके दिल का हाल कोई ।

चिराग-ए-दिल जो हवाले किये हवाओं के फिर,
बचाये गा क्या खुदा......कर खड़ी दिवाल कोई ।

मिटा दे नाम मेरा..............हाथ की लकीरों से,
अगर है दिल में तेरे.........रह गया मलाल कोई ।

-------------------हर्ष महाजन

1212  1122 1212  112(22)

Wednesday, December 28, 2016

कहूँ मैं कैसे मुझे खुद पे इख्तियार नहीं,

...

कहूँ मैं कैसे मुझे खुद पे इख्तियार नहीं,
लगे है दुनियाँ में अब मेरा कोई यार नहीं ।

ये दिन ये रात कई इस खिजां में बीते मगर,
ये अश्क़ आज भी आँखों में गिरफ्तार नहीं ।

किसी पे वक़्त कहाँ पूछे मुझसे हाल यहां,
ये आशियाँ है जहां अब तलक बहार नहीं ।

ये अश्क़ निकलें तो दर्दे गुबार निकलेगा यूँ,
मगर हैं ख्वाब जो आँखों को ऐतबार नहीं ।

ये दर्द ए सहरा बना दिल भी 'हर्ष'आज तेरा,
किसी कली को याँ खिलने का इंतज़ार नहीं ।

-----------हर्ष महाजन

बहर
1212 1122 1212 112

Tuesday, December 27, 2016

शरीक ए मुहब्बत शरीक ए सफर है,


...

शरीक-ए-मुहब्बत, शरीक-ए-सफर है,
ऐ जान-ए-तमन्ना तु मेरा ज़िगर है ।

अगर धूप देखी तो छाँवें भी देखीं,
मगर इक कशिश है ,वहां तू जिधर है ।

है तुझ पे गुमाँ पर, ये दिल पे निशाँ क्यूँ,
वो गर्दिश के दिन तो हुए दर-बदर हैं ।

यूँ फिकरों में दिन कटती अश्क़ों में रातें,
है कैसा सितम हर दवा बे-असर है ।

गज़ब मंज़िलें हैं, गज़ब हैं सदायें,
कि धड़कन पे तेरी ही मेरा सफर है ।

हो बस इक नज़र, हो चले इतमिनाँ फिर,
मचलने लगा जो, बता दिल किधर है ।

किसी शख्स को हो न हो दर्द जानाँ,
मेरे दिल के हुजरे पे इसका असर है ।


---------हर्ष महाजन

बहरे मुत्कारिब मुसम्मन सालिम
122 122 122 122

Monday, December 26, 2016

ज़ख्म ऐसा दिया संग जवाब आ गया

...

ज़ख्म ऐसा दिया संग जवाब आ गया,
आया गम भी मगर बेंनकाब आ गया ।

बात कुछ भी न थी, हो गयी इंतिहा,
और टूटा सा रिश्तों में ख्वाब आ गया ।

कश्ती सागर सी लहरों पे डोली न थी,
पर क्यूँ तूफान-ए-गम बेहिसाब आ गया ।

यूँ तो मेरी मुहब्बत भी कम तर न थी,
जाने अश्कों का फिर क्यूँ सलाब आ गया ।

चाह रुतबे की न थी क्या थी ये ख़ता,
ज़िंद में क्यूँ ये लम्हा बेताब आ गया  ।

ऐ खुदा सोचा तुझ से गिला तो करूँ,
तू भी कर्मों की खोले किताब आ गया ।

-----------हर्ष महाजन

212 212 212 212 212
बेताब = agitated