Follow by Email

Sunday, April 8, 2018

ज़ुदा हुआ पर सज़ा नहीं है


 ...

ज़ुदा हुआ पर सज़ा नहीं है,
न ये समझना ख़ुदा नहीं है ।

ज़रा सा नादाँ है इश्क़ में वो,
सबक़ वफ़ा का पढ़ा नहीं है'

दिखाऊँ कैसे मैं दिल के अरमाँ , 
चराग़ दिल का जला नहीं है ।

है दर्द ग़म का सफ़र में अब तक,
कि अश्क़ अब तक गिरा नहीं है ।

न वो ही भूले ये दिल दुखाना,
यहाँ अना भी ख़ुदा नहीं है ।

न देना मुझको ये ज़ह्र कोई,
हुनर तो है पर नया नहीं है ।

लिपट जा आकर तू ऐ महब्बत,
जनाज़ा रुख़्सत हुआ नहीं है ।

---हर्ष महाजन

************
बहरे-मुतका़रिब मुज़ाहफ़ की 8 में से एक शक्ल
🌸 वज़्न-- 121 22 -- 121 22
🌸 अर्कान- फ़ऊन फ़ालुन-- फ़ऊन फ़ालुन
********
.