Follow by Email

Friday, May 27, 2016

मुझको जीने का खुदा आके सलीका दे दे


...


मुझको जीने का खुदा आके सलीका दे दे
हूँ  मुहब्बत में कोई आके तरीका दे दे ।

प्यार जिससे है मुझे उसके फ़साने हैं बहुत

ऐ खुदा चुपके से ज़ख्मों का ज़खीरा दे दे ।


जाने दुनिया ने क्यूँ झाँका मेरे दिल में यूँ ही
राज़ कोई तो मुझे मुहब्बत का लचीला दे दे |

कर दिया उसने कतल फिर भी मैं टुकड़ों में जिया,

अर्ज़ इतनी है खुदा दिल भी फकीरा दे दे ।


रात दिन मुझको सताये है वो बनके साया,
जा बसूं दिल में मैं उसके वो सलीका दे दे |


हर्ष महाजन