Follow by Email

Monday, March 26, 2018

अपनी ही ख़ता पर हो परिशां,जो दिल पे लगा कर रोते हैं

...

अपनी ही ख़ता पर हो परिशां,जो दिल पे लगा कर रोते हैं,
वो लोग इमां के सच्चे हैं.............पर चैन से यारो सोते हैं ।

होता है फिदा दिल उनका भी,..धनवान वो मन के होते हैं,
होती है अदाएँ अल्लड़ सी.........दिल भंवरों से ही होते हैं ।

अब घुट ही न जाये दम उनका इन ग़ैर सी दिखती राहों में,
जो कीमती लम्हों को अपने.....फुटपाथ पे सोकर खोते हैं ।

अब छोड़ के कैसे जाएं वो कुछ कीमती रिश्तों की खातिर
जो रोज़ बिताते सड़कों पर.....खुशियों के पल जो बोते हैं ।

बर्बाद किये गुलशन इनके....कुछ वक़्ती गुनाहों ने लेकिन
जब पर्दा उठता कर्मों का......फिर अश्क़  बहाकर धोते हैं ।

हर्ष महाजन 

221 1222 22 221 1222 22