Follow by Email

Tuesday, April 12, 2016

मुझे ग़म है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है




मुझे ग़म है मेरा कोई यहाँ दीवाना नहीं है,
यक़ीनन दुनियाँ ने मुझको यहाँ पहचाना नहीं है  

हुआ हूँ पारा-पारा देख ज़माने की अदाओं को,
मुझे क्यूँ लगता था कोई यहाँ बेगाना नहीं है

चले तलवारों की माफ़िक़ ज़ुबाँ अपने क़रीबों की,
लगे वैसे भी अब मौसम यहाँ सुहाना नहीं है

हुए हमदर्द अब दुश्मन खुदाया दे क़फ़न मुझको,
यहाँ बे-दर्द दुनियाँ में मेरा ठिकाना नहीं है  

तज़ुर्बा हो गया मुझको सहे जब शोले नफ़रत के,
हुई जो साज़िशें पर 'हर्ष' यहाँ अनजाना नहीं हैं

हर्ष महाजन 




एक पुरानी कृति (ज़रा नज़रों से कह दो जी निशाना चूक न जाए)