Follow by Email

Sunday, June 26, 2016

राज़ अपना......उछाला है उसने

...
राज़ अपना.....उछाला है उसने,
अपना घर खुद उजाड़ा है उसने |
.
कैसे आँगन में बिछ गये कांटे,
ये शज़र यूँ उखाड़ा है उसने |

दिल में कोई भी गम नहीं था गर,
रिश्ता फिर क्यूँ बिगाड़ा है उसने |

बिखरा घर ऐसे, टूटा ज्यूँ दर्पण,
क्यूँ ज़हर यूँ उतारा है उसने |

“हर्ष” हैरां था खोया होश-ओ-खबर,
इक सफा-ए-ज़िन्द फाड़ा है उसने |


हर्ष महाजन


खफीफ मुसद्दस मखबून महफूज़ मकतू
2122 1212 22