Follow by Email

Monday, June 27, 2016

तिरछी पड़ी तेरी नज़र की हम दिवाने हो गये

...
तिरछी पड़ी तेरी नज़र की हम दिवाने हो गये,
थे ख्वाब गुजरी रात के वो सब पुराने हो गये |
.
अपनी अना की चोट से धड़कन को मैंने खो दिया,
प्यार के किस्से थे जो पल में फ़साने हो गये |

मिलते थे तुम तो ज़िंदगी में ख़्वाबों की थी कश्तियाँ,
सच बहारों के वो दिन गुजरे ज़माने हो गये |

हम तो रहे थे हम-बगल चाहा बने अब हम-सफ़र,
पर ख्वाब वो अपने सुहाने सब ठिकाने हो गये |

उठने लगा जो रफ्ता-रफ्ता अब ज़हन से इक धुंआ,
अश्कों भरे ये तनहा पल अपने खजाने हो गये |

ये दर्द फिर-फिर सीने में अब ढूंढता है रास्ता,
अब ज़ख्म इतने हो गये वो भी दिवाने हो गये |


हर्ष महाजन

बहरे रजज़ मुसम्मन सालिम
2212 - 2212 - 2212 - 2212